संदेश

जैसा करोगे वैसा ही भरोगे लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

fill as you do, जैसा करोगे वैसा ही भरोगे

चित्र
एक दिन एक जेन मठ में सभी शिष्य अपने गुरु के चारों ओर इकट्ठा हुए, गुरु बोले मैं जो कहानी सुना रहा हूं उसे पूरे ध्यान से सुनो फिर उन्होंने कहना शुरू किया, एक बार बुध अपनी आंख बंद किए हुए बैठे थे, तभी उन्हें किसी की आवाज सुनाई दी बचाओ बचाओ उन्हें समझ आ गया कि यह आवाज किसी मनुष्य की थी, जो नर्क के किसी गड्ढे में था और पीड़ा भोग रहा था, बुद्ध को यही समझ में आया कि उसे यह दंड इसलिए दिया जा रहा था क्योंकि जब वह जिंदा था तब उसने बहुत सी हत्याएं और चोरिया की थी, उन्हें सहानुभूति का अहसास हुआ और वह उसकी मदद करना चाहते थे उन्होंने यह देखने का प्रयास किया कि क्या उस व्यक्ति ने अपने जीवित अवस्था में कोई अच्छा काम किया था, उन्हें पता लगा कि उसने एक बार सड़क पर चलते हुए उसने इस बात का ध्यान रखा था कि एक मकड़ी पर उसका पैर न पड़ जाए तो बुद्ध ने उस मकड़ी से उस व्यक्ति की मदद करने के लिए कहा, मकड़ी ने एक लंबा मजबूत धागा नर्क के उस गड्ढे में भेजा जिससे वह अपनी जाला बुनती है. वह व्यक्ति उस धागे को पकड़ कर ऊपर चढ़ने लगा तब बाकी के लोग भी वहां यातना भोग रहे थे उसी धागे को पकड़ कर ऊपर चढ़ने लगे तो उस व्यक्ति