what is smps, SMPS क्या है ?

 S.M.P.S. का फुल फार्म होता है स्विच मोड पावर सप्लाई। आज के समय में SMPS सप्लाई का इस्तेमाल लगभग सभी डिवाइसों में करने की कोशिश की जा रही है जैसे कि आप नीचे दिए हुए चित्र में देख सकते हैं। अब ऐसा क्यों है क्योंकि एसएमपीएस के अंदर आपको बहुत सारी सुविधाएं मिल जाती है जैसे-

what is smps, SMPS  क्या है

यह एक साधारण ट्रांसफार्मर के मुकाबले वजन के हिसाब से काफी हल्का होता है। इसे आवश्यकता के अनुसार रूप भी दिया जा सकता है इसकी ऊंचाई भी काफी कम हो सकती है आवश्यकता के अनुसार। यह फ्लकचुएशन AC वोल्टेज में भी एक स्थाई आउटपुट वोल्टेज प्रदान करता है। यह काफी कम AC करेंट पर भी पूरी तरह से काम करने में सक्षम होता है। इसमें आवश्यकता के अनुसार बहुत सारे आउट पुट मिल जाते है फिक्स वोल्टेज के रूप में। 

इस एसएमपीएस के अंदर भी एक ट्रांसफार्मर का इस्तेमाल किया गया रहता है जो कि एसएम ट्रांसफार्मर होता है। यह साइज में बहुत ही छोटा होता है यह ट्रांसफॉर्मर सर्किट की मदद से चालू होता है इसलिए यह स्विच मोड पावर सप्लाई कहलाता है। जो आपका मोबाइल चार्जर होता है वह भी एक स्विच मोड पावर सप्लाई ही है।आपके लैपटॉप का चार्ज़र भी स्विच मोड पावर सप्लाई है।

 यानी कि आप कोई भी डिवाइस का आविष्कार करते हैं तो उसके अंदर पावर सप्लाई की आवश्यकता होती है। जो कि पहले ज्यादातर ट्रांसफार्मर की मदद से ली जाती थी। अब लगभग सभी डिवाइसों को छोटा हल्का एवं पतला  बनाने का उद्देश्य रखा जा रहा है। वजन के हिसाब से ट्रांसफार्मर वजन दार भरी भरकम उपकरण है इसलिए एसएमपीएस ज्यादा इस्तेमाल किया जा रहा है। और सुविधा भी अच्छी मिल जाती है।

SMPS की जानकारी 

अब इसके इनपुट पर ज्यादा फ्लैक्चुएशन AC वोल्टेज रहने के बावजूद इसके आउटपुट वोल्टेज बिल्कुल स्थिर रहती है। जबकि एक साधारण ट्रांसफार्मर के अंदर इनपुट फ्लैक्चुएशन वोल्टेज होने पर, आउटपुट वोल्टेज में भी फ्लैक्चुएशन देखने को मिलता है। ट्रांसफॉर्मर का वजन भारी होता है जैसा कि नीचे दिए हुए चित्र में देख सकते हैं।  एसएमपीएस बहुत सारे कंपोनेंट्स को मिला करके बनाया जाता है।
what is smps, SMPS  क्या है
जबकि ट्रांसफार्मर बिल्कुल एक अकेला कॉम्पोनेन्ट होता है। आप किसी भी अविष्कार का निरीक्षण करते हैं तो आपको एसएमपीएस का विभाग सबसे पहले देखने को मिलता है। क्योंकि यही विभाग है जो किसी भी अविष्कार को जीवित करता है यानी कि ऊर्जा देने का काम करता है। इसलिए हर अविष्कार के अंदर जो कि डायरेक्ट एसी करंट पर चलता हो तो उसके अंदर एसएमपीएस अनिवार्य होता है या फिर ट्रांसफार्मर जो की सप्लाई देने का काम करता है।

 किसी भी अविष्कार को समझने से पहले आपको पावर सप्लाई या एसएमपीएस के बारे में समझना होगा। 
एसएमपीएस बहुत सारे कंपोनेंट से मिलकर बनता है इसलिए सबसे पहले आपको उन कंपोनेंट के बारे में समझना होगा। जब सारे कंपोनेंट्स की जानकारी आपको हो जाएगी उसके बाद आपको किसी भी अविष्कार को समझने में आसानी होगी। उदाहरण के तौर पर आपको अनेक प्रकार के एसएमपीएस के चित्र दिखाए जा रहे है। 
what is smps, SMPS  क्या है
अब आपको जरा इनके मजबूती के जान लेना चाहिए। दोस्तों अगर देखा जाय तो SMPS ट्राँफार्मर के मुकाबले कम सुरक्षित रहता है। क्योकि ट्रांसफार्मर एक अकेला कोम्पोनेन्ट है और इसमें ज्यादा संभावना है की यह अधिक वोल्टेज मिलने पर ही ख़राब हो सकता है। जबकि एसएमपीएस बहुत सारे क्प्म्पोनेंट की मदद से बनाया गया है। इस लिए एक भी कम्पोनेन्ट में खराबी आने पर एसएमपीएस में खराबी आ सकती है। 

अब एसएमपीएस अधिक वोल्टेज मिलने पर तो ख़राब होगा ही लेकिन इसे इसकी आवश्यकता से कम वोल्टेज में इस्तेमाल करने में भी खराबी आ सकती है। मौषम के हिसाब से एसएमपीएस में जमी हुई धूल मिटटी में नमी भी खराबी का कारण हो सकता है। क्योकि एसएमपीएस में बहुत सारे सिंग्नल को एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाते रहते अलग अलग कम्पोनेट के लिए नमी के वजय से सिंग्नल दिशाहीन होने लगते है। और एसएमपीएस ख़राब हो जाता है। 

दोस्तों अब इसका मतलब यह नहीं है की एसएमपीएस की लाइफ ट्रांसफार्मर की लाइफ से कम रहती है। जी हा  दोस्तों यह बिलकुल सही है। ट्रांफॉर्मर की लाइफ से जरा भी कम नहीं होती है एसएमपीएस की लाइफ। एसएमपीएस की लाइफ उसकी बनावट एवं उसकी क्वालिटी के ऊपर पर निर्भर करता है। 




















टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

electronics technician repair skills -आत्म निर्भर टेक्निशियन कैसे बने ?

business idea for electronics technician, इलेक्ट्रॉनिक्स टेक्निशियन के लिए बिजनेस आइडिया

Complete information about diode । डायोड की सम्पूर्ण जानकारी सिर्फ एक अध्याय में